Showing posts with the label उत्कर्ष कहानियांShow All

बेरोजगारी : unemployment

बेरोजगारी : Unemployment आज अखबार में विज्ञापन छपा था, विज्ञापन के साथ ही पूछताछ के एक सम्पर्क अंक (नम्बर) भी,नवनीत सुबह सुबह चाय की चुस्की ले अखबार पढ़ रहा, अचानक उसकी निगाह उस विज्ञापन पर गयी । चाय का कप टेबल पर रख कर दोनों हाथों में अखबार को ले विज्ञापन पढ़ने लगा … Read more

सच्चा प्रेम [True Love]

!! सच्चा प्रेम [True Love] !!  पिता की डाँट फटकार को सबहि उनकी नाराजगी समझते है,उनका गुस्सा समझते है, पर  एक  पिता का हृदय समझ से परे होता है,वह एक नारियल की भांति होता है, बाहर से सख्त और अंदर से कोमल, यह बात पहले मेरी समझ से भी बाहर थी,परंतु जब यथार्थ से परिच… Read more

मेहनत का फल

मेहनत का फल : Result Of Exertion गरीब ! कहने को तो सबहि होते है,पर मन से हार मान लेने वाला ही गरीब होता है,अगर मनुष्य की मन इच्छा सशक्त है,तो वह अपना भविष्य खुद सुनिश्चित कर सकता है,वह जो चाहेगा वही पावेगा । रामू बड़ा ही मेहनती था,निम्न वर्गीय परिवार मे जन्म होने… Read more

ममता का आशीष [Mamta Ka Ashish]

!! ममता का आशीष [Mamta Ka Ashish] !! गहरी नींद में,कुछ शोर सुनाई दिया । सुबह-सुबह ये कौन शोर मचा रहा है  ? मन ही मन  गुस्सा आ रहा था । अभी तो आँख लगी थी, सुबह इम्तिहान था इसलिए देर रात तक पढ़ाई की थी। पिताजी को छोड़कर घर के सारे सदस्य सुबह देर से उठते है , उ… Read more