कनक मंजरी छन्द

 कनक मंजरी छन्द विधान :  यह वार्णिक छन्द है। 
2. गुरु का अर्थ गुरु, लघु का अर्थ लघु [ चार लघु +६ भगण (२११)+१ गुरु] =२३ वर्ण 
3. चार  चरण, सभी समतुकान्त [ मापनी  ११११,२११,२११,२११, २११,२११,२११,२ ]

Example :