उत्कर्ष समीक्षायें लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैंसभी दिखाएं

उत्कर्ष सृजन समीक्षा : शुभा शुक्ला मिश्रा “अधर”

उत्कर्ष सृजन समीक्षा : शुभा शुक्ला मिश्रा “अधर”  नवीन जी ! सर्वप्रथम तो मैं आपकाे बता दूँ कि मैं स्वयं को  एक समीक्षक नहीं मानती, समीक्षक का कार्य है किसी भी रचना को प्रत्येक दृष्टिकोण से जाँचना ,परखना, काव्य के गुण दोषों की कसौटी पर कसना ,तब उचित टिप्पणी देना… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : सा• अनुभा मुंजारे

सा•अनुभा मुंजारे "अनुपमा" जी की कलम से  हमारे कुञ्ज परिवार के प्रिय  रचनाकार ... नवीन शर्मा ' श्रोत्रिय ' जी पर.....मेरी समीक्षा  " पूत के पाँव पालने में " कहावत को चरितार्थ करता हुआ ... नवीन जी का व्यक्तित्व और कृतित्व है ।  … और पढ़ें

आपकी समीक्षा : आ• सुरेश जी पत्तार

आ• सुरेश जी पत्तार 'सौरभ' की कलम से   २६ - २७  उम्र में साहित्यिक डालों की भी मुझे ठीक जानकारी नहीं थीं। आज पहली साहित्यिक सीडी चढ रहा हूँ। भले ही नवीन की उम्र कम रही होगी। इनकी रचना समीक्षा में कुछ का मन सकुचाया होगा, फिर भी छोटी मूर्ति में बडी कीर्ति… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : आ• शैल श्री श्लेषा जी

आ• शैलश्री..श्लेषा जी की कलम से .. .  आदरणीय नवीन जी सबसे पहले इतनी कम उम्र में की गई साहित्यिक तरक्की के लिए तहे दिल से हार्दिक अभिनंदन, आपने लेखन विधाओं को जानकर खुशी हुई कि आप साहित्य के अनेक विधाओं पर अपना हाथ आजमाए हैं । आपकी रचनाओं की प्रकाशन के लिए फिर से ए… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : आ• महेंद्र जैन “मनु” जी

आ•महेंद्र जैन “मनु” जी की कलम से  आदरणीय नवीन जी को सादर प्रणाम करतें हुए अपनी छोटी सी बात कहता हूँ ! माँ शारदा के पुत्र की समीक्षा करना अत्यन्त कठीन विषय है !  सूरज को दीपक दिखा कर कोनसी स्तुति मंत्र पढूं ! हर विधा के राजकुमार की हम राज तिलक से सम्मान कर… और पढ़ें

आपकी समीक्षा सा• ममता गिनोडिया जी [ Writes Review By Mamta Ginodia ]

सा• ममता गिनोडिया जी की कलम से   Writes Review By  Mamta Ginodia  अभी जब नवीन श्रोत्रिय जी का जीवन परिचय पढा तो बहुत  खुशी  महसूस  हो रही है इतनी सारी काबलियत होना यह भी एक बड़े फक्र  की बात है ।        समीक्षका :   सा•ममता गिनोडिया जी और पढ़ें

आपकी समीक्षा : ममता बनर्जी मंजरी जी [ Writes Review By Mamta banarji]

!! सा• ममता बनर्जी “मंजरी” जी की कलम से  !! नवीन जी की रचनाओं पर समीक्षा गद्द  और  पद्द  दोनों  विधाओं  के  पारंगत रचनाकार नवीन श्रोत्रिय" उत्कर्ष " जी की रचनाओं पर समीक्षा करना हालांकि मेरे लिए बहुत कठिन जान पड़ता है फिर भी कोशिश कर रही हूँ। वैसे ही आ… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : राजश्री तिवारी जी [ Writes Review By Rajshree Tiwari ]

!! सा• राजश्री तिवारी जी की कलम से !! नवीन जी कुञ्ज मे आप को किसी परिचय की आवश्यकता नही है, हम सभी आपके उत्कृष्ट लेखन से परिचित हैं ।  छोटी सी उम्र मे ही आपने बहुत सी विधाओं का ज्ञान अर्जित कर लिया जिसके लिए आप बधाई  के पात्र हैं । आपकी काव्य यात्रा सदा अनवरत  चलती… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : डॉ•अरुण श्रीवास्तव “अर्णव” जी [ Writes Review By Dr. Arun Shrivastav ]

!! आ•डॉ•अरुण श्रीवास्तव अर्णव जी की कलम से  !! DR.Arun Shrivastav आज साहित्य के एक सशक्त युवा हस्ताक्षर नवीन शर्मा उत्कर्ष के शानदार जीवन परिचय से रूबरू होने का मौका मिला । अपनी रचनाओं से नवीन जी पाठकों पर एक स्पष्ट प्रभाव परिलक्षित करने में सफल रहे हैं । उनक… और पढ़ें

आपकी समीक्षा - रीता जयहिंद जी [ Writes Review By Reeta Jaihind ]

!! सा• रीता जयहिंद की कलम से !!  रीता जयहिंद  आo नवीन श्रोत्रिय "उत्कर्ष  मेरा अहोभाग्य है कि मुझे साहित्य जगत की इतनी महान  विभूति हस्ती के लेखन पर समीक्षा का अवसर प्राप्त हुआ है । मैं नूतन साहित्य कुंज की सभी महानुभावो की शुक्रगुजार हूँ कि हमें प्रत… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : रुनू बरुवा रागिनी [ Writes Review By Roonu Baruva ]

!! रुनू बरुवा "रागिनी" जोरहाट जी की कलम से  !!   रुनू बरुवा रागिनी नवीन जी के विषय में पढ़कर उनके बारे में बहुत कुछ ज्ञात हुआ | इतनी कम उम्र में आपने जीवन के कई क्षेत्रों में महारत हासिल की है जो काबिले तारीफ है |  उपनाम भी आपके योग्य है | पहली क… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : सम्मानिया जय श्री शर्मा जी

!! सा•जय श्री शर्मा जी की कलम से !! आ. नवीन जी का परिचय पढ़कर लगा कि कितनी कम उम्र में वे साहित्य के क्षेत्र में इतना आगे बढ़ गये हैं बहुत बहुत बधाई आ. नवीन जी को अपनी प्रथम रचना में सुबह सवेरे वे बहुत ही सुंदर संदेश दे रहें हैं अच्छे कर्म करके ही मनुष्य अपनी किस्म… और पढ़ें

आपकी समीक्षा - श्री मुरारि पचलंगिया जी [ Writes Review By Murarilal Pachlagiya ]

!! आ• श्री मुरारि पचलंगिया जी  जी की कलम से   !! एक उभरते हुए रचनाकार के रूप में  हमारे सर्वप्रिय भाई नवीन शर्मा श्रोत्रिय   इस मंच के लिए एक सुन्दर सौगात के रूप में हैं । हमें गर्व है ऐसे साथी को पाकर । इनकी रचनाओं में विविधता, गम्भीरता, सरसता सभी गुण विद्यम… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : सा• वाणी बरठाकुर विभा जी [ Writes Review By Vaani Thakur Vibha ]

समीक्ष का  : सा• वाणी बरठाकुर "विभा" ========================= वाणी बरठाकुर विभा जी आदरणीय नवीन शर्मा श्रोत्रिय उत्कर्ष जी से आज सम्पूर्ण रूप से परिचित होकर बहुत अच्छा लगा । इतने कम उम्र में आप साहित्य क्षेत्र में इतने आगे बढ़ता हुआ देख कर मुझ… और पढ़ें

आपकी समीक्षा : प्रतिभा प्रसाद (जमशेदपुर)

प्रतिभा प्रसाद (जमशेदपुर ) जी की कलम से...  नवीन जी हिंदी साहित्य का उभरता सितारा हर विधा के सिद्धहस्त लेखक आपको और आपकी लेखनी को नमन करती हूँ । समीक्षा का प्रयास कर रही हूँ। पहली रचना में कर्म की प्रधानता है। भाग्य  भी कर्म  करने वालोें का ही साथ देती है। गीता म… और पढ़ें